इन विचित्र किस्म की मछलियों के बारे में आपने शायद ही सुना होगा

1.लंग फिश (Lung Fish) : आप ये बात जानते ही होंगे कि ,मछलियाँ बिना पानी के नहीं रह सकती धारणा बदलनी होगी क्योंकि अफ्रीका में पाई जाने वाली लंग फिश सूखा पड़ने पर खुद को जमीन में दफन कर लेती है। सूखे के मौसम के दौरान जब यह जमीन के अंदर होती है तो अपने शरीर के मेटाबोलिज्म को 60 गुना तक कम कर लेती है। इस मछली के बारे में कहा जाता है कि यह पांच साल तक बिना कुछ खाए पीए जिंदा रह सकती है।

2. ब्लू पेरेट ‍फिश (Blue Parrotfish) : एकदम नीले रंग की यह मछली अटलांटिक महासागर में पायी जाती है। इसकी खासियत यह है कि इसकी तोते की तरह चोंच होती है। मतलब यह कि इसके अलगा भाग तोते की तरह नजर आता है और इसका नीला रंग देखना बहुत ही सुखद है।


3. पाकु फिश (Pacu Fish) इस मछली को बेल कटर (Ball Cutter) भी कहते हैं। इसकी खासियत यह है कि इसके दांत इंसानों जैसे होते हैं। यह जब मुंह फाड़ती है तो वह इंसानी मुंह नजर आता है। यह अपने दांतों से किसी को भी काटने से चूकती नहीं है।

4. ग्लौकस एटलांटिकस फीश (Glaucus Atlanticus) : हालांकि इसको कुछ लोग मछली नहीं मानते बल्की इसे ब्लू ड्रैगन कहते हैं। यह बहुत ही छोटी ऐसी मछली की तरह है जो कि ड्रेगन जैसी दिखाई देती है। आप इसे अपनी हथेली में रख सकते हैं। इसके सिर से लेकर पूंछ तक काले पट्टे बने होते हैं और ड्रेगन जैसे पंखों पर ही यह पट्टियां देखी जा सकती है। इसका बाकी हिस्सा स्काई ब्लू होता है। कहते हैं कि इसकी पेट में में गैस भरी होने के कारण यह समुद्र के गुनगुने पानी की सतह पर तैरता दिखाई देता है।

5. रेड लैप्ड बैट फिश (Red-lipped Batfish) : इस मछली की खासियत यह है कि इसके होठ एकदम लाल रंग के होते हैं। ऐसा लगता है जैसे इसने लिपिस्टिक लगा रखी हो। हालांकि इस मछली का रंग भूरा मटमेला होता है। यह गैलापागोस द्वीप समूह (Galápagos Islands) में पाई जाती है।


6.गोब्लिन शार्क फिश (Goblin Shark) : लगभग पूरी दुनिया में पाई जाने वाली यह शार्क मछली है। यह समुद्री सतह के 100 मीटर की गहराई में रहती है और लोगों को किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाती। इसकी खासियत यह है कि इसका मुंह अजीब ही होता है। ऐसा लगता है कि इसका सिर गेंडे के सिंग के समान है। इसीलिए यह अन्य शार्क मछलियों से भिन्न होती है।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *